धर्म

ज्योतिष

वास्तु

वास्तु शास्त्र क्या है? 

वास्तु शास्त्र एक ऐसा प्राचीन भारतीय विज्ञान है जिसमें किसी घर में रहने वाले व्यक्तियों की सुख-समृद्धि

अधिक जानकारी

वास्तु दिशाओं का महत्व

वास्तु शास्त्र में दिशाओं का बहुत महत्व है क्योकि प्रकृति का संबंध दिशाओं के साथ है और

अधिक जानकारी

हरसिंगार एक दिव्य वृक्ष माना गया हैं, हरसिंगार को पारिजात भी कहते हैं। समुद्र मंथन में 14 रत्नों की प्राप्ति

अधिक जानकारी

शमी (Shami) का पौधा शनिदेव को सबसे प्रिय है।

"शमी" का पौधा जिस घर मे भी होता हैं, शनिदेव की कृपा

अधिक जानकारी

वास्तुशास्त्र के अनुसार प्रत्येक भवन में ब्रह्म स्थान बड़ा महत्व रखता हैं। ये भवन का बिल्कुल मध्य स्थान होता हैं।

अधिक जानकारी

आजकल हम अपनी प्राचीन सभ्यता और संस्कृति को भूलते जा रहे हैं, आजकल जितने भी भवन बनवाए जाते है, उन

अधिक जानकारी

दिवार घडी कहाँ लगाएं ? 

वास्तुशास्त्र के अनुसार दीवार घडी कभी भी दक्षिण दिशा में ना लगाये, क्योकि यह दिशा यम

अधिक जानकारी

सकारात्मक ऊर्जा वाली घड़ी

वास्तुशास्त्र के अनुसार मधुर ध्वनि वाली घड़ी घर मे सकारात्मक ऊर्जा का संचार करती हैं, घर के

अधिक जानकारी

वास्तुशास्त्र के अनुसार बच्चों का रूम सजाया जाए तो बच्चों का मन पढ़ाई में अच्छी तरह से लगेगा।

विद्यार्थियों को ईशान

अधिक जानकारी

ONLINE VOTE

आपको शुक्लाम्बरा वास्तु एवं ज्योतिष पोर्टल द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई ?

Result

SOCIAL PIXEL